Health

जब 3 भाई एक साथ अंतराष्ट्रीय टेस्ट मैच खेलें, Grace Brothers...

क्या आप जानते हैं कि ऐसा भी एक मौका क्रिकेट में आया हैं जब 3 भाई एक साथ अंतराष्ट्रीय क्रिकेट मैच साथ खेलें। आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं। 

क्रिकेट में हमने अक्सर दो भाइयों को साथ में खेलते हुए देखा है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऐसे भी एक मौका हैं जब 3 भाई एक साथ अंतराष्ट्रीय क्रिकेट साथ खेलें है। आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं। 

विलियम गिल्बर्ट ग्रेस, फ्रेड ग्रेस और एडवर्ड ग्रेस (इंग्लैंड)

एक बार ग्रेस भाइयों की तिकड़ी एक अंतराष्ट्रीय मैच साथ में खेली थी। यह सितंबर 1880 में ओवल में इंग्लैंड बनाम ऑस्ट्रेलिया के बीच मैच था जहां तीन भाइयों ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया। विलियम गिल्बर्ट ग्रेस (डब्ल्यू.जी ग्रेस के रूप में प्रसिद्ध), फ्रेड ग्रेस और एडवर्ड ग्रेस ने इंग्लैंड के लिए एक साथ टेस्ट मैच खेला था।  यह चौथा टेस्ट अंतराष्ट्रीय टेस्ट मैच था। उस समय में  एक ओवर में केवल 4 गेंदें फेंकी जाती थीं और मैच आज के टेस्ट क्रिकेट की तरह 5-दिनों के बजाय 3 दिनों तक चलते थे।

यह पहली बार था जब एक ही मैच में 3 भाई साथ में एक अंतराष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेल रहे थे। पहली पारी में एडवर्ड ग्रेस और डब्ल्यूजी ग्रेस सलामी बल्लेबाज थे और फ्रेड ग्रेस निचले क्रम के बल्लेबाज थे।

Grace Brothers

दूसरी पारी में, फ्रेड ग्रेस सलामी बल्लेबाज थे और अन्य दो भाई मध्य क्रम के बल्लेबाज थे। यह WG  ग्रेस के लिए यादगार मैच था क्योंकि उन्होंने पहली पारी में 152 रनों की शानदार पारी खेली थी और मैच में 3 विकेट भी लिए थे। 

इंग्लैंड ने यह मैच 5 विकेट से आसानी से जीत लिया। दूसरी ओर, अन्य उनके भाइयों ने एक साधारण प्रदर्शन किया था। एडवर्ड ग्रेस ने 36 रन (पहली पारी) और 0 (दूसरी पारी) में बनाए थे जबकि फ्रेड ग्रेस दोनों पारियों में 0 पर आउट हुए थे।

इन तीनो भाइयों में WG ग्रेस ही एक अच्छे क्रिकेटर थे। इन्होने इंग्लैंड के लिए 22 टेस्ट मैच खेले थे इसके अलावा उन्होंने 870 प्रथम श्रेणी मैच भी खेले थे। वह एक प्रतिभाशाली ऑलराउंडर थे, जिन्होंने 54,211 रन बनाए और अपने प्रथम श्रेणी करियर में 2,809 विकेट भी लिए। दूसरी ओर उनके अन्य दोनों भाइयों ने अपने पहले मैच के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में फिर से नहीं खेल पाए। 

यह भी पढ़ें: इकलौता गेंदबाज जिसने टेस्ट सीरीज में विपक्षी टीम के सभी 16 खिलाड़ियों को किया है ऑउट

इस तरह से यह पहला मौका था जब एक अंतराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में साथ खेले थे।